Breaking News

वेज-नॉनवेज साथ बनाने वाले होटल में न खाएं खाना : IAS शोभित

वेज-नॉनवेज साथ बनाने वाले होटल में न खाएं खाना : IAS शोभित

राज्य, संभाग और जिला स्तर पर पूर्णतः गैर राजनैतिक त्रिस्तरीय शाकाहारी संघ के गठन करने का दिया सुझाव

मांसाहारी उत्पादों पर शाकाहारी होने का हरा चिन्ह होने पर फूड सेफ्टी स्टेंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया में शिकायत कर करें कार्रवाई

लोकमतचक्र डॉट कॉम। 

भोपाल (सार्थक जैन)। मध्यप्रदेश के IAS शोभित जैन ने मध्यप्रदेश में राज्य, संभाग और जिला स्तर पर पूर्णतः गैर राजनैतिक त्रिस्तरीय शाकाहारी संघ के गठन करने का सुझाव दिया है। उन्होंने शाकाहारियों से यह अनुरोध भी किया है कि केवल शाकाहारी रेस्टोरेंट, भोजनालय या होटल में ही भोजन करें, किसी भी मांसाहारी रेस्टोरेंट्स आदि में भोजन ना करें जब तक की उनमें पृथक-पृथक किचन ना हो।

शोभित जैन का कहना है कि ऐसे भोजनालय, रेस्टोरेंट और होटल जहां शाकाहारी और मांसाहारी भोजन साथ- साथ मिलता है और एक ही किचन में दोनों तरह की खाद्य सामग्री बनती है वहां मांस किसी न किसी प्रकार से शाकाहारी भोजन में मिक्स होने की पूर्ण संभावना होती है। किसी भी मांसाहारी रेस्टोरेंट में भोजन न करें जब तक कि उनमें अलग- अलग किचन न हो। लोग क्या कहेंगे इसकी परवाह न करें। शोभित जैन का कहना है कि ऐसे बहुत से उदाहरण है जिनमें शाकाहारियों को मांसाहारी भोजन अंशतः या पूर्णतः परोसे जाने पर कोई कार्रवाई नहीं हुई केवल सॉरी बोलकर काम चला लिया गया। 

वर्तमान में शाकाहारी लोगों का कोई संगठन एक्टिव नहीं दिखता जो इस तरह के कदम उठा सके। उन्होंने मध्यप्रदेश में राज्य, संभाग और जिला स्तर पर पूर्णतः गैर राजनैतिक त्रिस्तरीय शाकाहारी संघ के गठन करने का सुझाव दिया है। इसमें ऐसे लोग प्रतिनिधित्व करेंगे जो किसी भी पार्टी या राजनैतिक दल से न जुड़े हों। यह संघ शाकाहार का प्रचार करेगा और ऐसे रेस्टोरेंट जो अपने को शाकाहारी लिखते है और मांसाहार भी बेचते हैं उन पर कार्रवाई हेतु आवश्यक कदम उठाएगा। लोगों को जानबूझकर मांसाहार परोसने पर कार्रवाई न होने पर उन्हें आवश्यक सलाह देगा और उनकी मदद करेगा। मांसाहारी उत्पादों पर शाकाहारी होने का हरा चिन्ह होने पर फूड सेफ्टी स्टेंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया में शिकायत कर आवश्यक सुधार कराएगा। ऐसे पैकेज्ड फूड आइटम जिनमें चिन्ह हरा अर्थात शाकाहारी का होता है परन्तु उनमें डाले गए फूड स्टेबलाइजर और अन्य एडिटिव मांसाहारी होते है। जिनकी जानकारी शाकाहारी व्यक्ति को नहीं होती। शाकाहार संघ इस संबंध में शाकाहारी समाज को जानकारी देगा।


कोई टिप्पणी नहीं