Breaking News

MP: किसानों के लिए अच्छी खबर, आज से एप पर दर्ज करा सकेंगे फसल की जानकारी, ऐसे मिलेगा लाभ

MP: किसानों के लिए अच्छी खबर, आज से एप पर दर्ज करा सकेंगे फसल की जानकारी, ऐसे मिलेगा लाभ

 लोकमतचक्र.कॉम

भोपाल : मध्य प्रदेश के किसानों के लिए अच्छी खबर है। “मेरी गिरदावरी-मेरा अधिकार” के तहत किसान आज सोमवार 1 अगस्त से एमपी किसान एप पर अपनी फसल की जानकारी दर्ज करा सकेंगे । यह सुविधा 15 अगस्त तक मिलेगी, ऐसे में किसान गिरदावरी में भी आत्म-निर्भर बनेंगे।


मध्य प्रदेश के किसान अब गिरदावरी में भी आत्म-निर्भर हो जाएंगे। ” मेरी गिरदावरी-मेरा अधिकार” में किसान अपनी फसल की जानकारी MPKishan App के माध्यम से दर्ज कर सकेंगे। इस सुविधा के प्रारंभ होने से किसान अपनी फसल की जानकारी 1 अगस्त से 15 अगस्त 2022 तक स्वयं दर्ज करा सकते हैं। किसान की इस जानकारी का आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस एवं पटवारी से सत्यापन होगा। इस जानकारी का उपयोग फसल हानि, न्यनतम समर्थन मूल्य योजना, भावांतर योजना, किसान क्रेडिट कार्ड और कृषि ऋण में किया जायेगा।

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि राज्य सरकार किसानों के हित के प्रति प्रतिबद्ध है। उन्होंने प्रदेश के किसानों से अपील की है कि वे “मेरी गिरदावरी-मेरा अधिकार” में अपनी फसल को एमपीकिसान एप में अपलोड कर केन्द्र एवं राज्य सरकार द्वारा मिलने वाली सुविधाओं का लाभ उठायें। उन्होंने कहा कि इस प्रक्रिया में किसान ई-गिरदावरी को अपनाने के लिये 15 अगस्त तक अपने आप को रजिस्टर कर सकेंगे।आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश और आत्म-निर्भर किसान के मंत्र पर राज्य सरकार का यह किसान हितैषी निर्णय है।

ऐसे दर्ज कर सकेंगे जानकारी

➡️MPKISAN App को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है।

➡️किसान एप गूगल प्ले स्टोर से इस एप को डाउनलोड कर लॉगिन कर फसल स्व-घोषणा, दावा आपत्ति ऑप्शन पर क्लिक कर अपने खेत को जोड़ सकते हैं।

➡️खाता जोड़ने के लिये प्लस ऑप्शन पर क्लिक कर जिला/तहसील/ग्राम/खसरा आदि का चयन कर एक या अधिक खातों को जोड़ा जा सकता है।

➡️खाता जोड़ने के बाद खाते के समस्त खसरा की जानकारी एप में उपलब्ध होगी।

➡️उपलब्ध खसरा की जानकारी में से किसी भी खसरे पर क्लिक करने पर ए आई के माध्यम से जानकारी उपलब्ध होगी।

➡️किसान के सहमत होने पर एक क्लिक से फसल की जानकारी को दर्ज किया जा सकेगा।

➡️संभावित फसल की जानकारी से असहमत होने पर खेत में बोयी गई फसल की जानकारी खेत में उपस्थित होकर लाइव फोटो के साथ दर्ज की जा सकती है।


कोई टिप्पणी नहीं