Breaking News

कुत्ते को मिला वफादारी का इनाम, मालिक ने बनाया वारिस और उसके नाम कर दी अपनी जायदाद

कुत्ते को मिला वफादारी का इनाम, मालिक ने बनाया वारिस और उसके नाम कर दी अपनी जायदाद

किसान ने अपनी संपत्ति कुर्ते के नाम कर किया साबित कुत्ता सबसे वफादार साथी

18 एकड़ जमीन के मालिक किसान की दो पत्नी ओर छः बच्चे है

छिंदवाड़ा। कुत्ता इंसान का सबसे वफादार साथी होता है, जिसे बाड़ी बड़ा गांव के रहने वाले किसान ओम नारायण ने साबित कर दिखाया है। उन्होंने अपनी वसीयत का एक हिस्सा कुत्ते के नाम लिख दिया है, तो वहीं दूसरा हिस्सा अपनी पत्नी के लिए। ये पूरा मामला छिंंदवाड़ा जिले के चौरई थाना क्षेत्र का है।

बता दें कि, किसान ने बेटे द्वारा बुढ़ापे में सेवा नहीं करने पर अपनी पूरी वसीयत पालतू कुत्ते के नाम कर दी । किसान ने बकायदा सरकारी शपथ पत्र बनाते हुए पालतू कुत्ते को अपना वारिस घोषित किया है, जिसका नाम जैकी है।

50 वर्षीय किसान ओम नारायण वर्मा ने अपनी वसीयत में लिखा है कि ‘मेरी सेवा मेरी पत्नी और पालतू कुत्ता करता है। इसलिए मेरे जीतेजी वह मेरे लिए सबसे अधिक प्रिय है। मेरे मरने के बाद पूरी संपत्ति और जमीन-जायदाद के हकदार पत्नी चम्पा वर्मा और कुत्ता रहेगा। साथ ही कुत्ते की सेवा करने वाले को जायदाद का अगला वारिस समझा जायेगा।

जैकी से है विशेष लगाव

वसीयत को पढ़ा जाए, तो ओम वर्मा ने अपनी संपत्ति का एक हिस्सा जैकी के नाम करने की वजह बताई है। वसीयत के अनुसार, उसकी देखभाल पत्नी चम्पा द्वारा की जा रही है। इसलिए संपत्ति का एक हिस्सा चम्पा के नाम किया गया है। वहीं 11 माह का जैकी हमेशा उनके साथ रहता है और देखभाल करता है, जिसके चलते जैकी के नाम संपत्ति का दूसरा हिस्सा किया गया है।

जैकी की देखभाल करने वाले को अधिकार

वसीयत के अनुसार, जो भी व्यक्ति जैकी के साथ रहेगा और देख-रेख करेगा, उसे ही संपत्ति का अगला वारिस घोषित किया जायेगा।

ओम वर्मा की हैं दो पत्नियां

बाड़ी बड़ा निवासी ओम वर्मा की दो पत्नियां है। वहीं ग्रामीणों का कहना है कि उनका दो बार विवाह हुआ था। पहली पत्नी धनवंती वर्मा है, जिससे ओम वर्मा को तीन बेटियां और एक बेटा है। वहीं दूसरी पत्नी चम्पा वर्मा है, जिससे दो बेटियां है।

18 एकड़ जमीन का हैं मालिक

बाड़ी बड़ा निवासी ओम वर्मा लाखों रुपये की संपत्ति का मालिक है। बताया जा रहा है कि, उनके पास 18 एकड़ की जमीन है। साथ ही अन्य संपत्ति भी है, जिसके हकदार उनका कुत्ता और दूसरी पत्नी है।.

कोई टिप्पणी नहीं